Friday, March 29, 2013

जिंदगी तुम क्या हो



जिंदगी तुम क्या हो !
कभी एक मुस्कुराती शहर
कभी उदास मायूस शाम
कभी हो तन्हा बेबस रात
तो कभी हो खुशियों का पैगाम
जिंदगी तुम क्या हो !!
                 
                   कभी हो माँ - सा दुलार
                   कभी हो निर्दयी समाजिक तिरस्कार
                   कभी हो खुशियों की अठखेलिया
                   और कभी प्रीतम का प्यार
                   जिंदगी तुम क्या हो !!

कभी हो खुशियों का डेरा
कभी हो खुशियों का घेरा
कभी - कभी तडपती दुपहरी
और कभी रैन बसेरा
जिंदगी तुम क्या हो !!
 
                 कभी हो प्रीतम कभी हो मीत
                 कभी - कभी हो विछोह का गीत
                 कभी हो खुद की हार
                 और कभी अपनों की जीत
                 जिंदगी तुम क्या हो !!
                  

No comments:

Post a Comment

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!