Tuesday, April 23, 2013

बेटिया


ओस की बूंद सी होती है, बेटिया !
खुरदुरा हो स्पर्श तो रोती है, बेटिया !!

रौशन करेगा बेटा बस एक बंश को !
दो -दो कुलो की लाज ढोती है , बेटिया !!

कोई नही है दोस्तों, एक दुसरे से कम !
हीरा अगर है बेटा, तो मोती है बेटिया !!

कांटो की राह पे खुद चलती रहेगी रोज !
औरो के लिए फूल ही बोती है, बेटिया !!

बिधि का बिधान या दुनिया की है ये रस्म !
क्यों सब के लिए भार होती है, बेटिया !!

धिक्कार है उन्हें जिन्हें बेटी बुरी लगे !
सबके लिए बस प्यार ही संजोती है, बेटिया !!

निवेदन   - अगर आप को ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो आप हमे comment के माध्यम से जरुर बताये ! दोस्तों आप से उम्मीद करता हु कि इस blog को आप सभी follow/join करेगे ! Join कर हमे अपना सहयोग दे ! Facebook Friends आप Facebook पर Comment कर सकते है !

अगर आप के पास कोई अच्छा Post है जो खुद आप का हो तो हमे अपने फोटो के साथ हमारे Email id - bindasspost.in@gmail.com पर लिख भेजे अच्छा लगने पे आपके Post को आप के Name के साथ  Publish की जाएगी  

"जय हिन्द जय भारत " 

No comments:

Post a Comment

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!