Friday, May 10, 2013

पढो तो एसे पढो भाग -2



1- सकारात्मक भावो के साथ रहने पर आप जो काम करते है, वे बहुत सहजता के साथ हो जाते है !

2 - आप तभी पढ़े जब मन प्रसन्न हो! दु:खी मन से की गई पढाई एक प्रकार से चट्टान पर की जाने वाली जुताई के समान लगभग व्यर्थ है !

3 - हम जो कुछ भी पढ़ते है, यदि उसे याद रखना चाहते है, तो येसा केवल स्वीकार्य- भाव के तहत ही हो सकता है !

4 - यदि गिरती हुई धारा से प्यास बुझानी है, तो धारा के निचे ही अपना हाथ करना होगा !

5 - श्रद्धा भाव का बहुत गहरा संबंध विश्वास से भी होता है !

6 - जब भी कोई पुस्तक पढ़े पढने से पहले उसके लेखक के बारे में अवश्य पढ़े !

7 - आप जब भी कुछ पढ़े अपने को अंदर से बिलकुल खाली करके पढ़े !

8 - जरूरत अधिक से अधिक पढने की नही होती बल्कि जरूरत होती है आवश्यक ज्ञान को सही तरीके से पढने की और इसके लिए मनोरंजन अनिवार्य है !

9 - हमारा मस्तिष्क मनोरंजन के बाद ताजा हो जाता है उसकी ग्रहण करने की क्षमता बढ़ जाती है !

10 - अल्हड़पन नशा एवं अन्य घटिया तरीको से जो मनोरंजन होता है, वह मूलत: मन का रंजन न होकर मन का पतन होता है ! मनोरंजन का अर्थ है - स्वस्थ रंजन !

इसे भी पढ़े -
पढो तो एसे पढो भाग - 1

                                                                 अगर आप के पास कोई अच्छी पोस्ट है तो please send करे मरे email id - bindasspost.in@gmail.com पर .......
अगर हमारे पोस्ट अच्छे लगे हो तो हमसे जुड़े Facebook पे like द्वारा या twitter पर हमे अपने email id या google पे join करे 


हमे अपना सहयोग दे जिससे और भी अच्छे पोस्ट मै Send कर सकू ! .. धन्यबाद ....
"जय हिन्द जय भारत'' 


No comments:

Post a Comment

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!