Sunday, May 5, 2013

ग़ज़ल



आदत सी हो रही है जमाने से डर नहीं लगता !
ढ़ूढ़ू कहा सुकून, घर भी घर नही लगता !!

नफरतो का विष कुछ इस कदर बढ़ा है !
अपना ही शहर अब शहर नही लगता !!

दूर वो शख्स जो मिला था कभी !
कैसे करू यकी वो शख्स वही नही लगता !!

बदलेगी इतनी दुनिया क्या पता था किसी को !
आदमी जानवरों में कोई फर्क नही लगता !!

खा लू गर जहर तो मर जाऊगा क्या !
मिलावटी दौर में जहर भी जहर नही लगता !!

अगर आप की कलम भी कुछ कहती है तो आप भी अपने लेख हमे भेज सकते है ! हमारा Email id - bindasspost.in@gmail.com ... 

निवेदन   - अगर आप को ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो आप हमे comment के माध्यम से जरुर बताये ! दोस्तों आप से उम्मीद करता हु कि इस blog को आप सभी follow/join करेगे ! Join कर हमे अपना सहयोग दे ! Facebook Friends आप Facebook पर Comment कर सकते है !

हमे अपना सहयोग दे जिससे और भी अच्छे पोस्ट मै Send कर सकू ! .. धन्यबाद ....
"जय हिन्द जय भारत'' 

No comments:

Post a Comment

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!