Friday, August 16, 2013

वतन की एक आवाज




राजमहल को शर्म नहीं है घायल होती धाती पर,

भारत मुर्दाबाद लिखा है श्रीनगर की छाती पर ;

मन करता है फूल चढ़ा दूं लोकतंत्र की अर्थी पर,

भारत के बेटे निर्वासित हैं अपनी ही धरती पर l

वे घाटी से खेल रहे हैं गैरों के बलबूतेपर,
जिनकी नाक टिकी रहती है पाकिस्तानी जूतों पर !

माओवादियों को साथी बनाकर वनाचल से खेलें वो,
वोटों के खातिर, अपने लोगों के प्राण तक ले लें वो ;

अब केवल आवश्यकता है हिम्मत की,खुद्दारी की,
दिल्ली में मोदी जी को मोहलत दे दो तैय्यारी की l

सेना को आदेश थमा दो, घाटी ग़ैर नहीं होगी,
जहाँ तिरंगा नहीं मिलेगा उनकी खैर नहीं होगी.....

3 comments:

  1. I've learn several good stuff here. Certainly value bookmarking for revisiting.

    I surprise how a lot attempt you place to make the sort of fantastic informative web site.


    Check out my blog post; CHI Hair

    ReplyDelete
  2. I enjoy, lead to I discovered just what I used to be looking for.
    You have ended my four day long hunt! God Bless you man. Have a nice day.
    Bye

    My blog; Dr Dre Beats

    ReplyDelete
  3. Hey there! I just wish to offer you a huge thumbs up
    for your great information you have right here
    on this post. I will be coming back to your website for more soon.

    My website; Christian Louboutin Pumps

    ReplyDelete

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!