Monday, March 10, 2014

कृष्ण भक्ति



कोई पागल पिता का है ... कोई पागल है माँ का !
कोई पागल बहन का है ... कोई पागल है भाई का !
कोई पागल है बेटी का ... कोई पागल जमाई का !
कोई पागल है इज्ज़त का ... कोई पागल कमाई का !
कोई पागल है शोहरत का ... कोई पागल है नारी का !
कोई पागल है दौलत का ... कोई पागल घरारी का !
है ... पागलपन मै ये दुनिया ... कि दुःख सुख की पिटारी का !
असल मै ... है वही पागल ... जो पागल है बिहारी का !  

More Post - 
आप सभी का हार्दिक स्वागत है ! आप Ψ !!卐!!   गीता को पढ़े अब FB पे भी हिंदी & English दोनों में मित्रो like कर जुड़े हमसे आप का स्वागत है Ψ !!卐!!  [ link- Srimad Bhagavad Gita ] Ψ !!卐!! 



No comments:

Post a Comment

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!