Saturday, April 5, 2014

सायरी


तुम इस कदर बहकी - बहकी बाते ना किया करो !
कही बहक गया तो समलना मुस्किल हो जायेगा !!

«« आशिकी कविताएँ  »»                                 «« ना जाने उसे  »»


No comments:

Post a Comment

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!