Friday, May 2, 2014

भरी महफ़िल में



भरी महफ़िल में ना इस कदर मुझे देखा करो
ये सारे नजारे बैठे लोग  देखा करते है
मै तो समझ नहीं पाता तेरे इशारे को
पर महफ़िल में बैठे लोग सब समझा करते है

ये तेरी गुस्ताख निगाहे
जब भी मेरे आँखो से मिलती है
सुलझाती कुछ नहीं, और भी उलझा देती है
ना  जाने तू देखती है प्यार से,
या तेरे देखने का तरीका ही यही है
इतना समझने कि कोशिश किया
पर न जाने क्यों समझ में ना आती है
जब जब तू देखा करती है
हर बार दिल में एक सवाल उमड़ आती है
कि तू देखती है प्यार से,
या तेरे देखने का तरीका ही यही है

अगर नहीं समझ पाता,इशारो कि भाषा
तो क्यों ना बोल के ही समझा देती है
कही यैसा न हो, कि होजाउ तुझसे दूर
फिर समझ में आये तेरे इशारो कि  भाषा
तो फिर होगा खुद पे अफसोस ज्यादा 
कि क्यों ना समझ पाये तेरे इन इशारो कि भाषा


 «« मेरी निगाहे भीड़ में न अटकी होती  »»                              «« यु न इस कदर  »»



More Post -


No comments:

Post a Comment

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!