Sunday, August 17, 2014

कृष्ण जन्माष्टमी कविता



हे कृष्णा मेरे सभी मित्रों पर अपनी कृपा बनाए रखना, सबका भला सबका कल्याण करना, वृंदावन का कृष्ण कनहैया ,सबकी आँखों का तारा , मन ही मन क्यों जले राधिका ,मोहन तो है सब का प्यारा | जमुना तट पर नंद का लाला,जब जब रास रचाए रे, तन मन डोले कानहा ऐसी, वंशी मधुर बजाए रे, सुध बुध खोए खड़ी गोपियाँ ,जाने कैसा जादू डारा ||१|| 
रंग सलोना ऐसा जैसे,छाई बदरिया सावन की, मैं तो हुई दिवानी,सावन के मन भावन की, रे कारण देख बाबरे,छोड़ दिया मैंने जग सारा ||२|| ''जय श्री राधे कृष्णा ' जय श्री कृष्णा जय जय श्री कृष्णा
/////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////
कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये //


No comments:

Post a Comment

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!