Friday, May 13, 2016

मेरे प्रियवर


चाहे मैं रहु जहां या मैं रहु ना रहु 
तेरे मेरे प्यार की उम्र सलामत रहे 
चाहे ये जमी आसमाँ रहे ना रहे 
तेरे मेरे प्यार की उम्र सलामत रहे
डर है तुझे मैं खो ना दू 
मिले जो खुदा तो बोल दू 
की मैं ये दो जहाँ का क्या करू 
तू जो मेरे पास है, 
मुझको ना कोई प्यास है 
मेरी तो पूरी हो गयी हर दुआ 
चाहे मेरे जिस्म में ये जान रहे न रहे 
तेरे मेरे प्यार की उम्र सलामत रहे

Related Post


प्यार भरी कविताएँ

Name पे Click करे -
Youtube - Bindass Post channel को Subscribe करे 
Facebook - Bindass Post Page like करे 
Twitter-      @gauravbaba93 Follow करे

No comments:

Post a Comment

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!