Friday, March 7, 2014

भक्ति सार




सुनकर बांसुरी की मीठी तान
हो जाती तेरी राधा परेशान
जब भी देखूं तब साथ में रहती
करे मनमानी बड़ी नादान ।
हरदम दिखती तेरे होठों पे
जब भी करती तेरा ध्यान ।
कुछ समझो मेरी परेशानी
वरना ले लेगी ये मेरी जान।
करे मनमानी बड़ी नादान ।

Next- 12


No comments:

Post a Comment

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!