Monday, July 8, 2013

पढो तो एसे पढो भाग - 5



1- पढने की शुरुआत अपनी रूचि के विषय से करे !

2- हमारे मस्तिष्क का यह कैनवास जितना साफ- सुथरा होगा, उस पर उकेरे जाने वाले चित्र भी उतने ही        
    अधिक गहरे, चटकदार और स्पष्ट होगे !

3- आप अपने मस्तिष्क को जटिलताओ से अधिक से अधिक मुक्त रखे !

4- मस्तिष्क की क्षमता सीमाओ से परे है वह कुछ भी कर सकता है और कितना भी कर सकता है !

5- हमे प्रकृति ने मस्तिष्क रूपी जो यह अदभुत यंत्र दिया है, उसके जैसा विलक्षण अभी तक दूसरा कोई यंत्र      
     नहीं बन सका है !

6- जीनियस वह है, जो सही बात का सही वक्त पर सही तरीके से प्रयोग कर सके !

7- प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती, बल्कि सच तो यह है कि वह प्रतिकूल परिस्थितियों में अधिक
     निखरती है !

8- जब हम क्रोध में होते है, तो हमारा मस्तिष्क कुछ अलग तरह की तरंगो से भर जाता है !

     यह भी पढ़े :-


No comments:

Post a Comment

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!